Poetry

aberrance.in

चाहत (Hindi)

अपने क़िस्से कहानियाँ में तुम्हें अब सुनता नहीं, इसका मतलब ये नहीं के अब तुम्हें मैं चाहता नहीं । नहीं बताता क्या बीतती है रोज़, अपने एहसास अब नहीं जताता, हर छोटी बात पर रूठ जाया करता था कभी, लेकिन अब हर बात को दिल से नहीं लगाता। सारे गिले-शिकवे बाट लेता हूँ ख़ुद में …

चाहत (Hindi) Read More »

aberrance.in

Salvation

Stuck within my skin Some sacred sins spin While I muse in my mellow blues I’m all loose letting my worries snooze The whiskey falls free on the rocks To open locks of my closed pandora box And the night witnesses my soul on fire as I smoke up my burning inner desire Only a shadow follows the …

Salvation Read More »