Poetry

aberrance.in

चाहत (Hindi)

अपने क़िस्से कहानियाँ में तुम्हें अब सुनता नहीं, इसका मतलब ये नहीं के अब तुम्हें मैं चाहता नहीं । नहीं बताता क्या बीतती है रोज़, अपने एहसास अब नहीं जताता, हर छोटी बात पर रूठ जाया करता था कभी, लेकिन अब हर बात को दिल से नहीं लगाता। सारे गिले-शिकवे बाट लेता हूँ ख़ुद में …

चाहत (Hindi) Read More »